Yogi Adityanath के बारे में हम जानते है कि वो उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री है लेकिन आज हम उनकी जीवनयात्रा के बारे में संक्षेप में बात करेंगे कि कैसे वो एक मंदिर के महंत से मुख्यमंत्री पद के लिए चुने गये है तो चलिए आज विवादों में रह चुके और बहुत से क्रिमिनल केसेस झेल चुके Yogi Adityanath की history के बारे में बात करते है –

Yogi Adityanath modern history in hindi 

Yogi Adityanath का असली नाम Ajay Mohan Bisht है और अभी ये 26 March 2017 के बाद से उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर काम कर रहे है | अगर उनकी सामाजिक छवि की बात करें तो उनकी इमेज कट्टर हिन्दू शख्स के तौर पर और अब राजनेता के तौर पर देखी जाती है | 1998 के बाद से ही वो लोकसभा के चुनाव को जीतते रहे है और लगातार 5 बार (in 1998, 1999, 2004, 2009 and 2014 elections) चुने गये है  | वो ‘ हिन्दू युवा वाहिनी ‘ संघठन के फाउंडर भी है और साथ ही इस बार बीजेपी के विधानसभा चुनाव जीतने के बाद उन्हें उतरप्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया गया है |
Yogi Adityanath modern history in hindi
Yogi Adityanath modern history in hindi 
Yogi Adityanath असल में उतराखंड के गढ़वाल जिले के एक गाँव पंचूर के एक राजपूत परिवार से आते है और इनका जन्म 5 जून 1972 में हुआ | पहले यह जिला उत्तरप्रदेश में हुआ करता था लेकिन राज्य के विभाजन के बाद यह अब उत्तराखंड में आता है | इनके पिता आनंद सिंह बिष्ट एक फारेस्ट रेंजर हुआ करते थे | अगर भाई और बहनों की बात करें तो चार भाइयों और तीन बहनों में Yogi Adityanath दूसरे नंबर पर आते है | अगर योगी की शिक्षा की बात करें तो  इन्होने  Hemwati Nandan Bahuguna Garhwal University से मैथ्स में B.Sc. की हुई है | 90 के दशक में योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर मूवमेंट के चलते घर छोड़ दिया था और वो इसमें शामिल हो गये इसके बाद वो गोरखनाथ मठ के महंत अवैद्यनाथ के प्रभाव में आये और उनके शिष्य बन गये और उनके बाद यही उनकी जगह मठ के अगले महंत बने | इन्हें यह नाम इनके गुरु ने दिया था और गोरखपुर में रहने के बाद भी ये अपने पेतृक गाँव आते जाते रहे और सन 1998 में  एक स्कूल वंहा बनवाया | Yogi Adityanath ने 21 वर्ष की उम्र में अपने परिवार को त्याग दिया था और मठ में शिष्य के तौर पर रहना शुरू किया था और उसके बाद ये अपने गुरु महंत अवैद्यनाथ की जगह महंत की पोस्ट पर पद्दोनत हो गये | 12 September 2014 को गुरु अवैद्यनाथ की मृत्यु के बाद इन्हें नाथ सम्प्रदाय के विधि विधान के साथ पीठाधीश्वर बना दिया गया |
Yogi Adityanath के बारे में अगर राजनीति और उनसे जुड़े विवाद के बारे में बात करें तो नाथ सम्प्रदाय से दीक्षा लेने वाले  Yogi Adityanath के अनुसार किसी भी नाथ सन्यासी को देश , धर्म और राजनीती में भाग लेना चाहिए और वो 1991 में ही भारतीय जनता पार्टी से जुड़ गये और 1998 में उन्होंने पहला चुनाव लड़ा और इसके बाद उनकी लोकप्रियता में लगातार इजाफा ही होता रहा | लेकिन वो अपनी इसी हिंदुत्व की राजनीती के चलते अपने कुछ विवादास्पद बयानों की वजह से चर्चा में भी रहे | भारतीय जनता पार्टी के साथ उनके सम्बन्ध खराब भी हुए लेकिन फिर भी उनकी लोकप्रियता को देखते हुए पार्टी के पास उनके साथ सम्बन्ध सुधारने के अलावा कोई चारा नहीं था और फिर उत्तरप्रदेश में होने वाले चुनावों को लेकर उन्हें बड़ी जिम्मेदारी दी गयी और जिसमे BJP ने बहुत हासिल किया और योगी मुख्यमंत्री बने |
ये कुछ वजहें है जिनको लेकर योगी चर्चा में रहे –
  • 9 June 1915 को योगी ने सूर्य नमस्कार को लेकर कुछ विवादित बयान दिए और कहा कि उन लोगो को भारत में रहने का कोई अधिकार नहीं है है जो सूर्य नमस्कार में भी हिन्दू और मुस्लिम खोज लेते है |
  • Yogi Adityanath ने शाहरुख़ खान की तुलना हाफिज सईद से करदी जब देश में असहिष्णुता पर बहस चल रही थी और उन्होंने कहा कि शाहरुख़ को देश के बहुसंख्यकों का ख्याल करना चाहिए जिन्होंने उन्हें स्टार बनाया है |
  • Yogi के उपर 2005 में ईसाई लोगो का धर्म परिवर्तन कराने का भी आरोप है जिसमे उन्होंने 1800 लोगो को एटा में हिन्दू धर्म में परिवर्तित कर दिया था |
  • इसके अलावा कई हिन्दू मुस्लिम दंगो को लेकर भी उनके युवा वाहिनी संगठन और उन पर आरोप लगे और गिफ्तारी भी हुई |
तो ये है   Yogi Adityanath modern history in hindi और अधिक जानकारी के लिए आप हमे ईमेल कर सकते है साथ ही हमारी वेबसाइट से Hindi history updates पाने के लिए आप हमे फेसबुक पर follow कर सकते है या नीचे दिए लाल रंग के घंटे के निशान पर भी क्लिक कर updates पा सकते है |

0 टिप्पणियां